जवाहरलाल नेहरू यांच्या निधनानंतर अटल बिहारींचे संसदेतील भाषण

महोदय, एक सपना था जो अधूरा रह गया, एक गीत था जो गूँगा हो गया, एक लौ थी जो अनन्त में विलीन हो गई। सपना था एक ऐसे संसार का जो भय और भूख से रहित होगा, गीत था एक…

Continue Reading